Bewafa Shayri

Jaruri Kaam Hai Rozana Bhool Jata Hun

ज़रूरी काम है लेकिन रोज़ाना भूल जाता हूँ
मुझे तुम से मोहब्बत है मगर जताना भूल जाता हूँ
तेरी गलियों में फिरना इतना अच्छा लगता है
मैं रास्ता याद रखता हूँ मगर ठिकाना भूल जाता हूँ।।

Comments

comments

Jaruri Kaam Hai Rozana Bhool Jata Hun
Click to comment

Leave a Reply

Most Popular

To Top