Humsafar
Bewafa Shayri

Koi Aur Humsafar – Bewafa Mohabbat

जिस किसीको भी चाहो वोह बेवफा हो जाता है,
सर अगर झुकाओ तो सनम खुदा हो जाता है,
जब तक काम आते रहो हमसफ़र कहलाते रहो,
काम निकल जाने पर हमसफ़र कोई दूसरा हो जाता है…

Advertisement

Comments

comments

Koi Aur Humsafar – Bewafa Mohabbat
Click to comment

Leave a Reply

Most Popular

To Top