Flipkart
Love Shayri

कैसे बयान करुं सादगी मेरे महबूब की

Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

Advertisement

“कैसे बयान करुं सादगी मेरे महबूब की,

पर्दा हमी से था मगर नजर हम पर ही थी.!”

************

अच्छा लगता है…
मेरे होठों पर रख कर अपनी उंगली…. जब बोलते हो तुम…

**********

प्रकृति का रस लिये
रंग भरती हैं जग में

वो तितलियाँ ऐसे
शांत मन की लहरों में

एक बूँद गिरा हो
इश्क़ का जैसे !

**********

मोहब्बत खुद बताती है,
कहाँ किसका ठिकाना है,
किसे ऑखों में रखना है,
किसे दिल मे बसाना है।

**************

सोचा नहीं अच्छा बुरा, देखा सुना कुछ भी नहीं,
माँगा ख़ुदा से हर वक़्त तेरे सिवा कुछ भी नहीं,
जिस पर हमारी आँख ने, मोती बिछाये रात भर,
भेजा वही कागज़ उसे, हमने लिखा कुछ भी नहीं।

**********

Mujhko phir wahi suhana nazara mil gaya,
Nazron ko jo deedar tumhara mil gaya,
Aur kisi cheez ki tamanna kyun karu,
Jab mujhe teri baahon mein sahara mil gaya.

***********

Aag Dil Me Lagi Jab Wo khafa Hue
Mehsoos hua Tab, Jab Wo Juda Hue
Kar K Wafa Kuch De Na Sake Wo
Per Bahut Kuch De Gaye Jab Wo Bewafa Hue…!

Advertisement

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.
Also Read  दर्द-ए-दिल के फूल, नसीब वालों के सीने में खिल्ते हैं
Power Bank
Loading...
Power Bank
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Comment moderation is enabled. Your comment may take some time to appear.

Power Bank
To Top