Flipkart

300-365 312-49V8 312-50 350-018 PDF 352-001 352-011 400-051 400-101 400-201 400-351 Practice Questions 499-01 4A0-104 500-260 500-265 500-290 500-451 Certification Exam 500-452 600-455 640-692 640-878 640-911 640-916 Exam Materials 642-035 Exam Dumps 642-883 642-902 642-980 642-996 642-997 642-999 Vce Demo 700-037 700-039 700-260 700-501 70-346 PDF 70-347 70-410 70-411 70-412 70-413 70-414 Practice Questions 70-461 70-462 70-463 70-465 70-480 70-483 Certification Exam 70-486 70-487 70-488 70-489 70-498 70-532 Exam Materials 70-533 Exam Dumps 70-534 70-680 70-685 70-697 70-980 74-343 Vce Demo 74-678 77-427 810-403 820-424 840-425 PDF 98-349 98-361 98-364 98-369 9A0-388 A30-327 Practice Questions ADM-201 ASF C_FSUTIL_60 C_HANATEC_1 C_TBI30_73 C_TSCM52_66 Certification Exam C2040-414 C2090-620 C2150-606 C9530-272 CABA CAS-002 Exam Materials CBAP Exam Dumps CCA-500 CCBA CGEIT CISA CISM CISSP Vce Demo CISSP-ISSMP

Politics

वाराणसी में बीजेपी के लिए राह मुश्किल है

Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

वाराणसी में चुनाव बीजेपी के लिए किसी अग्निपरीक्षा से कम नहीं है. यहां विधानसभा चुनाव में कामयाबी पार्टी के लिए नाक का सवाल है क्योंकि वाराणसी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संसदीय क्षेत्र है. बीजेपी की स्थानीय इकाई में समस्याओं और फूट से पार्टी का शीर्ष नेतृत्व अनजान नहीं है. मोदी और उनके मंत्रालय ने गंगा की सफाई के दावे बहुत जोर-शोर से किए थे. नमामि गंगा परियोजना को लॉन्च किए जाना इसी का नतीजा था. लेकिन राज्य सरकार और केंद्र की खींचतान के चलते गंगा की सफाई को लेकर खास कुछ नहीं किया जा सका.

Advertisement

इस मुद्दे की काट के तौर पर बीजेपी ने वाराणसी में फतेह को पक्का करने के एक और प्लान तैयार किया. इस प्लान का बड़ा हिस्सा जातिगत राजनीति, दलबदलुओं और गठबंधन पर आधारित है. वाराणसी में आठ विधानसभा क्षेत्र हैं. बीजेपी ने 2012 विधानसभा चुनाव में इन 8 में से 3 सीटों पर जीत हासिल की थी. एसपी को 2, बीएसपी को 2 और कांग्रेस को 1 सीट पर कामयाबी मिली थी. बीजेपी का जोर वाराणसी के ग्रामीण क्षेत्रों में सेंध लगाने पर है. हालांकि शहरी क्षेत्र की सीटों पर कब्जा बरकरार रखना पार्टी के लिए टेढ़ी खीर से कम नहीं है.

1_022817093338.jpg

 

शहरी सीटों पर जातिगत राजनीति हावी

बीजेपी को वाराणसी में ब्राह्मण, ठाकुर, वैश्य-बनिया वोटों के समर्थन से बल मिलता है. वहीं दूसरी पार्टियां मुस्लिम, दलित, कुर्मी, यादव वोटों के सहारे चुनावी वैतरणी पार करना चाहते हैं. इस चुनाव में कांग्रेस की पूरी कोशिश है कि सवर्ण वोटों में जितनी संभव हो सके सेंधमारी की जाए. इन वोटों को पारंपरिक तौर पर बीजेपी का समर्थक माना जाता है.

यही वजह है कि कांग्रेस ने वाराणसी की शहरी सीटों से बीजेपी को कड़ी चुनौती देने के लिए मजबूत ब्राह्मण प्रत्याशियों को उतारा है. बीजेपी शहर में पार्टी में अंदरूनी बगावत से पहले ही परेशान है. शहर के मौजूदा अपने तीन विधायकों में से बीजेपी ने एक का टिकट काट दिया. दूसरे को दोबारा टिकट दिया गया. तीसरे विधायक को टिकट ना देकर पार्टी ने उसके बेटे को उम्मीदवार बनाया.

2_022817093433.jpg

नीलकंठ तिवारी जिनको बीजेपी टिकट मिला

7 बार के विधायक श्याम देव राय चौधरी को बीजेपी ने टिकट ना देकर इस बार नए ब्राह्मण चेहरे नीलकंठ तिवारी पर भरोसा किया. इसी मुद्दे पर बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य जब भी क्षेत्र में आए भारी विरोध का सामना करना पड़ा. हालात इतने काबू से बाहर हुए कि बीजेपी अध्यक्ष को स्थानीय झमेलों से निपटने के लिए खुद कमान संभालनी पड़ी.

Also Read  एग्जिट पोल से आ रही है बीजेपी के लिए अबतक की सबसे बड़ी खुशखबरी

जाति समीकरणों को साधने के लिए बीजेपी का दारोमदार गैर यादव ओबीसी और गैर जाटव दलितों को अपनी ओर मोड़ने पर है. यूपी में जहां पांच चरणों में मतदान संपन्न हो चुका है वहां चाहे गैर यादव ओबीसी मतों का लाभ बीजेपी को मिला हो और समाजवादी पार्टी के लिए परेशानी खड़ी हुई हो लेकिन वाराणसी में समय ही बताएगा कि बीजेपी को इस रणनीति का कितना फायदा मिलता है.

अमित शाह का जोर शहर की तीन सीटों पर कब्जा बरकरार रखने के साथ ग्रामीण क्षेत्र की 5 सीटों पर भी ज्यादा से ज्यादा अपना दबदबा बनाने की है. बीजेपी की हड़बड़ी इसी बात से देखी जा सकती है कि बीते हफ्ते पार्टी के कमान मुख्यालय को लखनऊ से बदल कर वाराणसी ले आया गया. मुस्लिम, यादव, ब्राह्मण, वैश्य और दलित मुख्य पक्ष हैं जिनका वोट प्रतिशत 6 से 9% के बीच है.

3_022817093501.jpg

जयापुर गांव

वाराणसी चुनाव में जयापुर गांव प्रतिष्ठा का सवाल

वाराणसी के बाह्यक्षेत्र में स्थित सेवापुरी विधानसभा सीट के अंतर्गत जयापुर आता है. ये वही गांव है जिसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संसद ग्राम योजना के तहत मॉडल गांव के तौर पर गोद ले रखा है. सेवापुरी सीट पिछली बार समाजवादी पार्टी के कुर्मी उम्मीदवार के खाते में गई थी. इस बार इस सीट को छीनने के इरादे से बीजेपी के समर्थन से अपना दल की ओर से कुर्मी उम्मीदवार नील रतन नीलू मैदान में हैं. सेवापुरी से हमेशा कुर्मी उम्मीदवार के जीतने का इतिहास रहा है.

जहां तक विकास की बात है तो कहा जा सकता है कि जयापुर ने अच्छे दिनों को देखा है. यहां इंटरलॉक सड़कों का निर्माण हुआ. अब ये बात अलग है कि उनकी टाइल्स टूट चुकी हैं. सोलर चार्जर लगाया गया लेकिन उसकी बैट्री चोरी हो चुकी है. टॉयलेट्स बनाए गए लेकिन पानी की आपूर्ति से उन्हें नहीं जोड़ा गया. पानी के ओवरहैड टेंक बनाए गए लेकिन उनमें पानी नहीं है. ऐसे में विकास तो हुआ लेकिन उसका लाभ गरीबों तक पहुंचने की कोई गारंटी नहीं.

Also Read  मिल सकते हैं 2.5 करोड़ अमेरिकी डॉलर बस आपको ये बताना है…

ग्राउंड जीरो पर लोगों से जुड़े कई मुद्दे हैं लेकिन राजनीतिक दल जातिगत समीकरणों पर तवज्जो दे रहे हैं. ये देखना दिलचस्प होगा कि लोगों का इस पर क्या रुख रहेगा. अपना दल के रोहनिया सीट को लेकर बीजेपी से मतभेद रहे हैं क्योंकि यहां से वो अपना उम्मीदवार उतारना चाहता था लेकिन आखिरकार बीजेपी उम्मीदवार को ही यहां से भाग्य आजमाने का मौका मिला.

4_022817093524.jpg

 

बगावत और भितरघात से पार्टी को हो सकता है नुकसान

टिकट बंटवारे को लेकर असंतोष एक वो बड़ा मुद्दा है जिस पर बीजेपी को पार पाने के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ रही है. वाराणसी की एक सीट से बीजेपी के मौजूदा विधायक श्याम देव राय चौधरी अपना टिकट कटने को खुद के खिलाफ साजिश मान रहे हैं. चौधरी को क्षेत्र में दादा के नाम से जाना जाता है. एक और मौजूदा विधायक के बेटे को टिकट दिया गया है. इससे भी पार्टी के कई कार्यकर्ता नाखुश हैं और अमित शाह और केशव प्रसाद मौर्य के सामने नाराजगी भी जता चुके हैं.

Advertisement

वाराणसी कैंट से मौजूदा विधायक ज्योत्सना श्रीवास्तव की जगह सौरभ श्रीवास्तव को टिकट दी गई है. वाराणसी के शहरी क्षेत्र की 3 सीटों के मौजूदा विधायकों में से सिर्फ रविंद्र जैसवाल ही हैं जिन्हें पार्टी ने इस बार भी उम्मीदवार बनाया है. हालांकि यहां से बीजेपी के एक कार्यकर्ता सुजीत सिंह टीका भी टिकट के दावेदार थे, टिकट नहीं मिला तो अब वो निर्दलीय ही चुनावी मैदान में ताल ठोक रहे हैं.

बीएसपी से दलबदल कर बीजेपी में आए स्वामी प्रसाद के सहयोगी उदय लाल मौर्य पिछले चुनाव में बीएसपी टिकट से चुनाव जीते थे. इस बार स्वामी प्रसाद के साथ उन्होंने भी बीजेपी का दामन थाम लिया. लेकिन शिवपुर सीट से बीजेपी ने उदय लाल मौर्य की जगह एक और दलबदलू अनिल राजभर पर भरोसा करते हुए उन्हें टिकट दिया.अजगेरा की एससी सीट पर पिछली बार बीएसपी को कामयाबी मिली थी. इस बार बीजेपी ने इस सीट पर भारतीय समाज पार्टी के कैलाश नाथ सोनकर के साथ चुनावी तालमेल किया है.

5_022817093538.jpg

 

नमामि गंगा प्रोजेक्ट के बावजूद गंगा साफ नहीं

वाराणसी के घाटों के सतही सौंदर्यीकरण के अलावा गंगा में कुछ भी नहीं बदला है. नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने फरवरी में एक सुनवाई के दौरान कहा, गंगा की एक बूंद भी अब तक साफ नहीं हुई है. एनजीटी ने सार्वजनिक पैसे को व्यर्थ खर्च करने के लिए सरकारी एजेंसियों को लताड़ लगाई. जल प्रदूषण का स्तर पहले जैसे ही बरकरार है. केंद्र के नमामि गंगा प्रोजेक्ट का अभी तेजी पकड़ना बाकी है.

Also Read  Uttarakhand Election Results : बहुमत की ओर भाजपा, 17 सीटें जीतीं, 39 पर बढ़त

केंद्रीय मंत्री उमा भारती इसके लिए अखिलेश यादव सरकार की ओर से खड़ी की गई समस्याओं को जिम्मेदार बताती हैं. लेकिन वाराणसी के लोगों ने बड़ी उम्मीदों के साथ मोदी को वोट किया था. करीब 2000 करोड़ का बजट इस प्रोजेक्ट के लिए आवंटित किया गया था. कौन भूल सकता है उन दृश्यों को जब मोदी खुद सफाई के लिए बनारस के घाट पर सामने आए थे. विडंबना ये है कि पिछले 3 साल में ज्यादा कुछ बदलाव नहीं हुआ. किन्हीं नए सीवरों का निर्माण नहीं हुआ.

6_022817093552.jpg

 

स्थानीय विधायकों का कामकाज बीजेपी के लिए समस्या

वाराणसी में बीजेपी के मौजूदा विधायक केंद्र की परियोजनाओं का लोगों में प्रचार नहीं कर सके. साथ ही जमीनी स्तर पर उनका प्रदर्शन भी खास नहीं रहा. इन विधायकों का अपना कोई बड़ा आधार नहीं रहा. वे मोदी के नाम की रट लगाकर ही चुनावी नैया पार लगाना चाहते हैं. इसके अलावा नोटबंदी ने वैश्य-बनिया मतदाताओं को नुकसान पहुंचाया है. विकास के नाम पर शहर में जगह जगह सड़कों को खोद दिया गया. गगोलिया चौराहे पर दुर्गा प्रतिमा विसर्जन के दौरान हिंदू श्रद्दालुओं पर लाठीचार्ज के दौरान बीजेपी का चुप्पी साधे रखने से भी कुछ मतदाता नाराज हैं.

7_022817093606.jpg

परिवर्तन के नाम पर वोट मांग रही है बीजेपी

अब जबकि मोदी पहले से ही वाराणसी के सांसद हैं, अब उनके नाम पर फिर सपनों को बेचना टेढ़ी खीर से कम नहीं है. विकास के नाम पर ज्यादा कुछ खास नहीं हुआ है. बीजेपी के नेता वाराणसी में अधिक से अधिक मतदाताओं तक पहुंचने के लिए दिन-रात एक किए हुए हैं. केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने हालिया यात्राओं के दौरान परिवर्तन के नाम पर वोट मांगे. प्रधानमंत्री मोदी को आखिरी चरण के मतदान के लिए 4 और 5 मार्च को होने प्रचार में पूरा जोर लगाना होगा. बहरहाल ये देखना दिलचस्प होगा कि बनारसी मतदाताओं के दिलों को जीतने के लिए बीजेपी का परिवर्तन का नारा और जातिगत समीकरणों का कॉकटेल कितना कारगर रहता है.

Source-ichowk

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.
Power Bank
Loading...
Power Bank
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Comment moderation is enabled. Your comment may take some time to appear.

Power Bank
To Top