Sex

प्रेग्नेंसी में टाइम पर डिलिवरी के लिए करें इन पोजिशंस में सेक्स!

QUICK BITES
  • लेट से डिलिवरी होने को पोस्ट-टर्म डिलीवरी कहते हैं।
  • 42 हफ़्तों के बाद प्रसव ना होना पोस्ट-टर्म डिलीवरी होती है।
  • ये तीन सेक्स पोजिशंस टाइम पर कराते हैं डिलिवरी।

कई बार आपने ऐसे मामले देखे होंगे जब गर्भावस्था की डिलिवरी डेट के बाद भी महिलाओं को प्रसव नहीं हो पाता। इसे पोस्ट-टर्म डिलीवरी कहते हैं। इसके बाद फिर सामान्य डिलिवरी नहीं हो पाती और डॉक्टर सिजेरियन डिलीवरी करके बच्चों का जन्म करवाते हैं। लेट डिलिवरी होने का डॉक्टर पहले पता नहीं कर पाते जिसके कारण ये कई बार मां-बच्चे दोनों के लिए खतरा हो जाता है।

Advertisement


फिलहाल प्रेग्नेंसी में 42 हफ़्तों के बाद प्रसव ना होने पर इसे लेट डिलिवरी माना जाता है। डॉक्टर इसका एक मत से कोई कारण तो नहीं बता पाए हैं। लेकिन इन कारणों को प्रेग्नेंसी की देरी होने की वजह माना जाता है।

पोस्ट-टर्म डिलीवरी के कारण

  • कई बार आनुवांशिक कारण भी होते हैं। जैसे परिवार में अगर किसी की पहले पोस्ट-टर्म डिलीवरी हुई हो तो, भी संभावना होती है।
  • बच्चे के गर्भ में स्थिति सही नहीं होती है तो भी प्रसव में देरी हो सकती है।
  • मोटापा भी प्रसव में देरी होने का मुख्य कारण होता है।

sex position

सेक्स से कराएं टाइम पर डिलिवरी

अगर परिवार में किसी की पोस्ट-टर्म डिलीवरी हुई होती है तो डॉक्टर पहले ही कई तरह के उपाय बताने लगते हैं जिससे की डिलिवरी टाइम पर हो। जैसे चटपटा खाना। अच्छी हेल्दी रुटीन रखना। सुबह घूमना आदि। लेकिन इन सबके अलावा भी डॉक्टर कुछ विशेष तरह के सेक्स पोजिशंस में सेक्स करने की सलाह देते हैं जो टाइम पर डिलिवरी कराने में कारगर होते हैं। ये रहे हैं तीन विशेष तरह के सेक्स पोजिशंस-

Advertisement

सेक्स पोजिशन 1

इस सेक्स पोजिशन में पुरुष और महिला एक दूसरे के सामने लेटें हों। उसके बाद पुरुष के शरीर पर महिला अपना बायां पैर रख दे। इस पोजिशन में सेक्स करने से भ्रूण को किसी तरह का नुकसान नहीं होता और टाइम पर डिलिवरी में भी सहायक होता है।

सेक्स पोजिशन 2

एक आरामदायक सोफे में महिला बैठे हों और पुरुष उसके ठीक सामने सोफे पर बैठे और उसके साथ इंटरकोर्स करे। इससे महिला को प्रसव करने में आसानी होती है।

सेक्स पोजिशन 3

महिला पीठ के बल बिस्तर पर लेट जाए। फिर अपने घुटनों को मोड़ ले और पैरों के बीच में कुछ जगह छोड़ दे। (बिल्कुल वैसे ही लेटे जैसे डिलिवरी के दौरान महिला पैरों को खोलकर बिस्तर में लेटती हैं।) अब इंटरकोर्स करे। इससे आप सेक्स का मजा भी ले पाएंगे और गर्भस्थ शिशु को कोई नुकसान भी नहीं होगा। साथ ही डिलिवरी भी टाइम पर हो जाएगी।

Advertisement

Comments

comments

Click to comment

Leave a Reply

Most Popular

To Top